Uttarakhand Famous Temple

Uttarakhand Famous Temples List- उत्तराखंड, जिसे “देवताओं की भूमि” यानि की देव भूमि भी कहा जाता है, उत्तराखंड अपनी प्राचीन प्राकृतिक सुंदरता और आध्यात्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। हिमालय के बीच स्थित, यह भारत का उत्तरी राज्य कई मंदिरों से युक्त है जो दुनिया भर से तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता हैं। आइए आज हम इस लेख में उत्तराखंड के कुछ पवित्र मंदिरों के बारे में जानते हैं।

Kedarnath Dham (केदारनाथ मंदिर)

सबसे पहले हम बात करेंगे केदारनाथ मंदिर की जो भगवान शिव को समर्पित है, केदारनाथ मंदिर हिंदुओं के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है और यह भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंग में भी शामिल है। मनमोहक गढ़वाल हिमालय के बीच, समुद्र तल से 3,583 मीटर की ऊंचाई पर यह प्राचीन मंदिर स्थित है।

Badrinath Dham (बद्रीनाथ मंदिर)

बद्रीनाथ धाम भारत के उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित एक पवित्र हिंदू तीर्थ स्थल है। यह चार धाम और पंच बद्री तीर्थ स्थलों में से भी एक है, जो भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर समुद्र तल से 3,133 मीटर (10,279 फीट) की ऊंचाई पर गढ़वाल हिमालय में स्थित अलकनंदा नदी के किनारे स्थित है।

बद्रीनाथ मंदिर इस क्षेत्र का मुख्य आकर्षण है, जो अपनी आश्चर्यजनक वास्तुकला और धार्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि बद्रीनाथ मंदिर स्थापना 8वीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य द्वारा की गयी थी। यह मंदिर जटिल नक्काशी और मूर्तियों से सुसज्जित है, जो क्षेत्र की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को दर्शाता है।

पूरे देश और विदेश से तीर्थयात्री भगवान बद्रीनाथ जी का आशीर्वाद लेने के लिए बद्रीनाथ धाम जाते हैं। मंदिर भक्तों और पर्यटकों को समान रूप से आकर्षित करता है, जो न केवल अपनी आध्यात्मिक आभा से बल्कि इसके चारों ओर की लुभावनी प्राकृतिक सुंदरता से भी आकर्षित होता है।

Gangotri Temple (गंगोत्री मंदिर)

गंगोत्री मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी ज़िले में स्थित है।  गंगोत्री मंदिर, समुद्र तल से 3042 मीटर की ऊँचाई पर है। यह हिमालय की गंगोत्री धारा के उद्गम स्थल के पास है। गंगोत्री मंदिर हिंदू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है और माँ गंगा देवी को समर्पित है। यह सभी पापों को दूर करने वाली माँ गंगा के रुप में जानी जाती है।

गंगोत्री मंदिर नेत्र निरीक्षण के लिए भी प्रसिद्ध है, क्योंकि यह स्थान नदी के किनारे स्थित है और यहाँ का पर्यटन स्थल भी बहुत मनमोहक है। गंगोत्री मंदिर हिंदू धर्म के पवित्र स्थलों में से एक है। तीर्थयात्री इस पवित्र स्थल पर माँ गंगा के पानी में डुबकी लगाने और आध्यात्मिक शुद्धि के लिए आते हैं।

Yamnotri Temple (यमुनोत्री मंदिर) (Uttarakhand Famous Temple)

यमुनोत्री मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में स्थित है। यह भारत की प्रमुख नदियों में से एक और हिंदू धर्म में एक पवित्र नदी, यमुना नदी का स्रोत है। यह मंदिर देवी यमुना को समर्पित है, जिन्हें भगवान् सूर्य देव की बेटी और मृत्यु के देवता यमराज की बहन के रूप में पूजा जाता है। यह मंदिर गढ़वाल हिमालय के बीच समुद्र तल से लगभग 3,293 मीटर (10,804 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।

गंगोत्री मंदिर की तरह, यमुनोत्री मंदिर भी हिंदुओं के लिए एक पवित्र तीर्थस्थल है, विशेष रूप से आध्यात्मिक कायाकल्प और शुद्धि चाहने वालों के लिए। यमुनोत्री मंदिर हिंदू धर्म में एक प्रतिष्ठित तीर्थयात्रा सर्किट, उत्तराखंड के चार धाम यात्रा का एक हिस्सा माना जाता है।

यमुनोत्री मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक हिमालयी शैली को दर्शाती है, यह भक्तों के लिए अत्यधिक धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व रखती है। मंदिर के आसपास का क्षेत्र अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है, जिसमें हरी-भरी हरियाली और शांत परिदृश्य हैं, जो आगंतुकों के आध्यात्मिक अनुभव को बढ़ाते हैं।

Neelkanth Mahadev Temple (नीलकंठ महादेव मंदिर)

नीलकंठ महादेव मंदिर एक पवित्र हिंदू मंदिर है जो भारत के उत्तराखंड राज्य के पौडी गढ़वाल जिले में स्थित है। यह ऋषिकेश के पास 1,330 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह भगवान शिव को समर्पित है, यहाँ भगवान् शिव को नीलकंठ के रूप में पूजा की जाता है। भक्त और तीर्थयात्री आशीर्वाद लेने और आध्यात्मिक शांति का अनुभव करने के लिए नीलकंठ महादेव मंदिर जाते हैं। मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक गढ़वाली शैली को दर्शाती है, और इसका शांत वातावरण दिव्य वातावरण में जोड़ता है।

मंदिर तक ऋषिकेश से पैदल यात्रा या मोटर मार्ग सड़कों के माध्यम से पहुंचा जा सकता है, जो आगंतुकों को क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता और आध्यात्मिक महत्व दोनों में डूबने का अवसर प्रदान करता है। यह शिव भक्तों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है यहाँ विशेष रूप से मानसून के महीनों और भगवान शिव को समर्पित वार्षिक श्रावण उत्सव के दौरान आगंतुकों की भीड़ उमड़ती है।

Mansa Devi Temple (मनसा देवी मंदिर)

मनसा देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के हरिद्वार शहर के बिलवा पर्वत के ऊपर स्थित एक प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है। यह मंदिर शक्ति के अवतार, देवी मनसा देवी को समर्पित है, यह मंदिर भक्तों के लिए महत्वपूर्ण धार्मिक महत्व रखता है, खासकर उन लोगों के लिए जो अपनी इच्छाओं और इच्छाओं की पूर्ति के लिए आशीर्वाद मांगते हैं।

शिवालिक पहाड़ियों पर बिलवा पर्वत के ऊपर स्थित, यह मंदिर पवित्र गंगा नदी और हरिद्वार के शहर सहित आसपास के क्षेत्र का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। भक्त या तो पहाड़ी पर ट्रैकिंग करके या केबल ट्रॉली की सवारी करके मंदिर तक पहुंच सकते हैं, जो तीर्थयात्रियों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प है।

मनसा देवी मंदिर साल भर बड़ी संख्या में भक्तों को आकर्षित करता है, विशेष रूप से नवरात्रि जैसे त्योहारों के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं, जब देवी के सम्मान में विशेष प्रार्थनाएं और अनुष्ठान आयोजित किए जाते हैं। मंदिर का शांत वातावरण इसे तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिए एक जरूरी गंतव्य बनाते हैं, जो दिव्य आध्यात्मिक सांत्वना चाहते हैं।

Chandi Devi Temple (चंडी देवी मंदिर)

चंडी देवी मंदिर एक प्रतिष्ठित हिंदू मंदिर है जो भारत के उत्तराखंड के हरिद्वार नगरी में नील पर्वत के ऊपर स्थित है। देवी पार्वती के अवतार देवी चंडी को समर्पित यह मंदिर भक्तों और तीर्थयात्रियों के लिए महत्वपूर्ण धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व रखता है।

समुद्र तल से लगभग 2,900 फीट (880 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर आसपास की घाटियों और नीचे बहती गंगा नदी का मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करता है। भक्त पहाड़ी पर ट्रैकिंग करके या केबल गाडी की सवारी करके मंदिर तक पहुंच सकते हैं।

यहां देवी चंडी की पूजा आभूषणों और हथियारों से सजी तीन फुट ऊंची मूर्ति के रूप में की जाती है, जो उनकी शक्ति और ताकत का प्रतीक है।

माँ चंडी देवी मंदिर में विशेष रूप से नवरात्रि जैसे त्योहारों के दौरान भीड़ होती है, जब देवी के सम्मान में विशेष समारोह और जुलूस आयोजित किए जाते हैं। मंदिर का शांत वातावरण, आध्यात्मिक वातावरण और मनोरम दृश्य इसे तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिए एक पसंदीदा गंतव्य बनाते हैं।

Rudranath Temple (रुद्रनाथ मंदिर)

रुद्रनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक हिंदू मंदिर है, जो भारत के उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में स्थित है। यह पंच केदार मंदिरों में से एक है, जो गढ़वाल हिमालय में भगवान शिव को समर्पित पांच प्राचीन मंदिरों का एक समूह है।

यह मंदिर शिव भक्तों के लिए अत्यधिक धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व रखता है। ऐसा माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां पास के एक अन्य महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल केदारनाथ से गायब होने के बाद भगवान शिव का चेहरा प्रकट हुआ था। यह मंदिर लुभावने प्राकृतिक परिवेश के बीच लगभग 3,600 मीटर (11,800 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।

रुद्रनाथ मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक हिमालयी शैली को दर्शाती है, जिसमें पत्थर की दीवारें और एक सरल लेकिन सुरुचिपूर्ण डिजाइन है। यह मंदिर आध्यात्मिक शांति और प्रकृति की गोद में रहने का अनुभव चाहने वाले भक्तों के लिए एक आनंदमयी है।

Tungnath Temple (तुंगनाथ मंदिर)

तुंगनाथ मंदिर भारत के उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित भगवान शिव को समर्पित एक पवित्र हिंदू मंदिर है। यह लगभग समुद्रताल से 3,680 मीटर (12,073 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।  यह दुनिया के सबसे ऊंचे शिव मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है और पंच केदार मंदिरों में से भी एक है।

भगतगण भगवान शिव की पूजा करने और हिमालय के आध्यात्मिक वातावरण का आनंद लेने के लिए तुंगनाथ आते हैं। यह मंदिर हिंदू पौराणिक कथाओं में अपने आप में बहुत महत्व रखता है, माना जाता है कि यह 1,000 वर्ष से अधिक पुराना है। ऐसा कहा जाता है कि तुंगनाथ मंदिर का निर्माण महाकाव्य महाभारत के पांडवों द्वारा महाभारत युद्ध के दौरान किए गए पापों की क्षमा मांगने के लिए किया गया था।

तुंगनाथ मंदिर की वास्तुकला पारंपरिक हिमालयी शैली का अनुसरण करती है, जिसका निर्माण पत्थर और लकड़ी से किया गया है। अपने सुदूर स्थान और चुनौतीपूर्ण इलाके के बावजूद, मंदिर एक लोकप्रिय तीर्थस्थल है।

भक्त अक्सर तुंगनाथ की यात्रा को पंच केदार तीर्थयात्रा सर्किट के साथ जोड़ते हैं, जिसमें अन्य चार केदार मंदिरों में रुकना शामिल है: केदारनाथ, रुद्रनाथ, मध्यमहेश्वर और कल्पेश्वर। तुंगनाथ की यात्रा में चोपता से लगभग 3.5 किलोमीटर का ट्रेक शामिल है, जो आसपास की चोटियों और घास के मैदानों के शानदार दृश्य को पेश करता है।

Jageshwar Temple (जागेश्वर मंदिर)

जागेश्वर मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के अल्मोडा जिले में स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है। यह भगवान शिव को समर्पित 100 से अधिक प्राचीन मंदिरों के समूह के लिए प्रसिद्ध है, जो इसे हिमालय के कुमाऊं क्षेत्र के सबसे बड़े मंदिर परिसरों में से एक है। माना जाता है कि जागेश्वर के मंदिर 9वीं से 13वीं शताब्दी के हैं, जिनमें जटिल पत्थर की नक्काशी और स्थापत्य शैली कुमाऊंनी और नागर स्थापत्य परंपराओं की विशेषता है। यहां पूजे जाने वाले मुख्य देव जागेश्वर भगवान् के रूप में भगवान शिव हैं।

यह मंदिर हरे-भरे देवदार के वृक्षों से घिरा और जटा गंगा नदी के किनारे स्थित है जो की आगंतुकों के मन को मोहित कर देने वाला है, जागेश्वर मंदिर आध्यात्मिक चिंतन और पूजा के लिए एक शांत वातावरण प्रदान करता है। जागेश्वर मंदिर पूरे वर्ष भक्तों और पर्यटकों को आकर्षित करता है । शिवरात्रि और श्रावण माह के हिंदू त्योहारों के दौरान मंदिरों में विशेष रूप से भीड़ होती है।

Baijnath Temple (बैजनाथ मंदिर)

बैजनाथ मंदिर भारत के उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। गोमती नदी के तट पर स्थित यह मंदिर परिसर हिमालय की प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ है, यह मंदिर एक  शांत और सुरम्य वातावरण प्रदान करता है। माना जाता है कि यह मंदिर 12वीं शताब्दी में कत्यूरी राजाओं द्वारा बनाया गया था और यह अपनी प्राचीन वास्तुकला और जटिल पत्थर की नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है।

बैजनाथ मंदिर में भगवान शिव को वैद्यनाथ के रूप में पूजा जाता हैं,  भगवान् वैद्यनाथ को उपचार और औषधि के देवता के रूप में पूजा जाता है। भक्त अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए मंदिर में आते हैं।

अपने धार्मिक महत्व के अलावा भी बैजनाथ मंदिर अपने ऐतिहासिक और स्थापत्य महत्व के कारण एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। मंदिर परिसर में विभिन्न हिंदू देवताओं को समर्पित कई छोटे मंदिर शामिल हैं, जो इसकी आध्यात्मिक आभा और सांस्कृतिक आकर्षण को और भी ज्यादा बढ़ाते हैं।

Kainchi Dham (कैंची धाम)

कैंची धाम भारत के उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं क्षेत्र में नैनीताल शहर के पास स्थित एक आध्यात्मिक स्थल है। कैंची धाम में आश्रम की स्थापना 1960 के दशक में नीम करोली बाबा के भक्तों द्वारा की गई थी, जो प्रेम, करुणा और निस्वार्थ सेवा की उनकी शिक्षाओं से आकर्षित थे।

दुनिया भर से भक्त और आध्यात्मिक साधक नीम करोली बाबा को श्रद्धांजलि देने और आश्रम के आध्यात्मिक वातावरण देखने लिए कैंची धाम आते हैं। हरी-भरी हरियाली और ऊंची-ऊंची पहाड़ियों के बीच बसा शांत वातावरण ध्यान, प्रार्थना और आत्मनिरीक्षण के लिए एक आदर्श वातावरण प्रदान करता है।

आश्रम में नीम करोली बाबा को समर्पित है, जहां भक्त प्रार्थना करते हैं और उनका आशीर्वाद लेते हैं।  कैंची धाम पश्चिमी साधकों के बीच विशेष रूप से लोकप्रिय है, जो नीम करोली बाबा की शिक्षाओं और चमत्कारों के वृत्तांतों से प्रेरित थे।

For more about Kainchi Dham कैंची धाम के बारे में और अधिक जानने के लिए क्लिक करे: कैंची धाम

Naina Devi Temple (नैना देवी मंदिर)

नैना देवी मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के नैनीताल शहर में स्थित एक प्रतिष्ठित हिंदू मंदिर है। नैनी झील के उत्तरी किनारे पर स्थित नैना देवी मंदिर नैना देवी को समर्पित है, जो देवी पार्वती का अवतार हैं। यह पवित्र मंदिर 64 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है, जहां कहा जाता है कि देवी सती की आंखें गिरी थीं।

श्रद्धालु पुरे साल माँ नैना देवी मंदिर में आते रहते हैं, और माता का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और इसके ऊंचे स्थान से नैनीताल शहर और आसपास के पहाड़ों के मनमोहक दृश्यों को देखते हैं।

Patal Bhuvaneshwar Temple (पाताल भुवनेश्वर मंदिर)

पाताल भुवनेश्वर मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के पिथौरागढ़ जिले में स्थित मंदिर है। पाताल भुवनेश्वर मंदिर भक्तों के बीच बहुत आध्यात्मिक और पौराणिक महत्व रखता है। यह मंदिर चूना पत्थर की एक प्राकृतिक गुफा है, जो हिमालय पर्वतमाला जितना ही पुराना माना जाता है।

पाताल भुवनेश्‍वर नाम का अनुवाद “भगवान भुवनेश्‍वर का भूमिगत निवास” है, जो भगवान शिव का संदर्भ देता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि इस गुफा की खोज सूर्य वंश के राजा ऋतुपर्ण ने की थी और इसके अस्तित्व का उल्लेख स्कंद पुराण में भी किया गया है।

गुफा परिसर में विभिन्न प्राकृतिक चट्टान संरचनाएं, स्टैलेक्टाइट्स और स्टैलेग्माइट्स हैं, जो इसके रहस्यमय आकर्षण को बढ़ाते हैं। भक्तों का मानना है कि इस गुफा की गहराई की खोज करना और इसकी संरचनाओं को देखना आध्यात्मिक रूप से समृद्ध है।

Hemkund Sahib (हेमकुंड साहिब)

हेमकुंड साहिब, जिसे गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब जी के नाम से भी जाना जाता है, भारत के उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में स्थित एक प्रतिष्ठित पवित्र सिख तीर्थ स्थल है। यह हिमालय में समुद्र तल से लगभग 4,329 मीटर (14,200 फीट) की ऊंचाई पर स्थित, यह दुनिया के सबसे ऊंचे गुरुद्वारों में से एक है।

“हेमकुंड” नाम का अंग्रेजी में अनुवाद “बर्फ की झील” है, जो गुरुद्वारे के पास हिमनद झील का सटीक वर्णन करता है। सिख परंपरा के अनुसार, दसवें सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह ने, गुरु गोबिंद राय के रूप में अपने पिछले जीवन के दौरान इस पवित्र स्थल पर ध्यान किया था।

गुरुद्वारा सात बर्फ से ढकी चोटियों से घिरा हुआ है, जो मानव शरीर के सात चक्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। हेमकुंड साहिब की शांत और सुरम्य सेटिंग इसकेआध्यात्मिक महत्व को और भी बढ़ाती है, जो हर साल हजारों भक्तों और पर्यटकों को आकर्षित करती है, खासकर गर्मियों के महीनों के दौरान जब मौसम अधिक अनुकूल होता है।

हेमकुंड साहिब तक पहुंचने के लिए भक्त गोविंदघाट से लगभग 13 किलोमीटर की यात्रा करते हैं। यह ट्रेक खड़ी ढलानों, चट्टानी इलाकों और लुभावने परिदृश्यों से होकर गुजरता है, जो शारीरिक परिश्रम और आध्यात्मिक आत्मनिरीक्षण दोनों की यात्रा प्रदान करता है। तीर्थयात्री आशीर्वाद और दैवीय कृपा पाने के लिए गुरुद्वारे की ओर जाते हैं।

हेमकुंड साहिब के गुरुद्वारा परिसर में मुख्य मंदिर, एक लंगर शामिल है जहां सभी आगंतुकों को उनकी जाति या पंथ की परवाह किए बिना मुफ्त भोजन परोसा जाता है, और तीर्थयात्रियों के लिए आवास सुविधाएं शामिल हैं। हेमकुंड साहिब का वातावरण धर्मपरायणता, विनम्रता और सौहार्दपूर्ण है, जो विविध पृष्ठभूमि के भक्तों के बीच एकता और भक्ति की भावना को बढ़ावा देता है।

सिखों के लिए, हेमकुंड साहिब की यात्रा आध्यात्मिक रूप से उत्थानकारी अनुभव मानी जाती है, जो राजसी हिमालय की गोद में आत्मनिरीक्षण, प्रार्थना और परमात्मा के साथ संबंध बनाने का अवसर प्रदान करती है। यह दुनिया भर में सिख धर्म के अनुयायियों के लिए आस्था और भक्ति का प्रतीक है।

उत्तराखंड के ये मंदिर गहरा आध्यात्मिक महत्व रखते हैं, जो भक्तों और पर्यटकों को शांत हिमालयी परिदृश्य के बीच दिव्य उपस्थिति का अनुभव कराते है और अपनी और आकर्षित करते हैं।

उत्तराखंड में कुछ प्रसिद्ध मंदिर कौन से हैं?

उत्तराखंड में बहुत सारे मंदिर है इसलिए उत्तराखंड को देवभूमि के नाम से जाना जाता है। यहाँ के कुछ प्रसिद्ध मंदिरों में केदारनाथ मंदिर, बद्रीनाथ मंदिर, यमुनोत्री मंदिर, गंगोत्री मंदिर, मनसा देवी मंदिर और नैना देवी मंदिर शामिल हैं।

Best time to visit these temples?

The best time to visit these temples is typically during the summer months, from April to June, when the weather is pleasant and conducive for travel. However, specific timings may vary depending on the accessibility of the temples due to weather conditions.
मंदिरों में जाने का सबसे अच्छा समय आमतौर पर अप्रैल से जून तक गर्मियों के महीनों के दौरान होता है, जब मौसम सुखद और यात्रा के लिए अनुकूल होता है। हालाँकि, मौसम की स्थिति के कारण मंदिरों की पहुंच के आधार पर विशिष्ट समय भिन्न हो सकता है।

One thought on “Uttarakhand Famous Temples List”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *